शनिवार, 22 सितंबर 2012

समय ठहर उस क्षण,है जाता,,,,

 
समय ठहर उस क्षण,है जाता,,,

ज्वार मदन का जब है आता
रश्मि-विभा में रण ठन जाता,


तभी उभय नि:शेष समर्पण

ह्रदयों का उस पल हो जाता,  

समय ठहर उस क्षण,है जाता,,,  


श्वास सुरभि सी आती जाती

अधरों से मधु रस छलकाती,


आलिंगन आबद्ध युगल तब

प्रणय पाश में है बँध जाता,    

समय ठहर उस क्षण,है जाता,,,          


कुसुम केंद्र भेदन क्षण आता

मृदुता को, कर्कशता  भाता


अग्नि शीत के बाहुवलय में,

अर्पण अपनें को कर पाता      

समय ठहर उस  क्षण,है जाता,,,,


विक्रम,,,

लिंक-vikram7:

63 टिप्‍पणियां:

  1. आलिंगन आबध्द(आबद्ध ) युगुल(युगल ) तब
    प्रणय पाश में है बँध जाता,

    बढ़िया प्रस्तुति ,समय ठहर उस क्षण है जाता

    ram ram bhai
    शनिवार, 22 सितम्बर 2012
    असम्भाव्य ही है स्टे -टीन्स(Statins) से खून के थक्कों को मुल्तवी रख पाना

    उत्तर देंहटाएं
  2. ठहरे ठहरे प्रणय पलों को, हमने इतराते देखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अग्नि शीत के बाहुवलय में,
    अर्पण अपनें को कर पाता

    पूरी कविता में दार्शनिकता का पुट अपने अंदाज में कुछ नहीं, बहुत कुछ बिंदास होकर कह रहा है. यह अपनी-अपनी क्षमत है कि हम कितना समझ पते हैं इसे. आभार इस प्रौढ़ और माननीय पोस्ट के लिए. इस रचना से प्रमाणित होता है कि आपकी सोच कितनी पैनी है. आभार ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. मधुर पलो को समेटे एक नाज़ुक रचना ....
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  5. मधुर स्मृतियों को साक्षी बनाती अदभुत प्रस्तुति और सुंदर शब्द सयोजन.

    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह!
    आपकी इस ख़ूबसूरत प्रविष्टि को कल दिनांक 24-09-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-1012 पर लिंक किया जा रहा है। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  7. श्वास सुरभि सी आती जाती
    अधरों से मधु रस छलकाती,

    आलिंगन आबध्द युगुल तब
    प्रणय पाश में है बँध जाता,

    समय ठहर उस क्षण,है जाता,,..

    बहुत ही मधुर काव्य वर्षा हो रही है आज ... प्रेम में आलिंगनबध होने पे समय सचमें रुक जाए तो जीवन मधुर हो जाए ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. उम्दा रचना सर अति सुन्दर बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  9. अच्छी लगी कविता। चित्र का चयन भी बेहतरीन है। वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूबसूरत भावों से पूर्ण एक सार्थक रचना के लिए बधाइयां

    उत्तर देंहटाएं
  11. नमस्ते धीरेन्द्र जी ,आपके ब्लॉग पर आना सदा ही सार्थक रहा है ,बधाई शानदार लेखन हेतु|

    उत्तर देंहटाएं
  12. हिंदी के अनमोल शब्दों के प्रयोग ने आपकी पिछली पोस्ट की रचनाओं को भी पढ़ने के लिये बाध्य कर दिया. आदरणीय धीरेंद्र जी का आभार जिन्होंने आपका लिंक देकर श्रेष्ठ साहित्य से साक्षात्कार का सु-अवसर प्रदान किया.विक्रम जी, बधाई.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. श्रंगार का बेजोड़ समन्वय ..सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  14. कल 24/09/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  15. खुबसूरत भाव..सुन्दर अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  16. विक्रम जी की सशक्त लेखनी से परिचय कराने पर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह बहुत ही सुन्दर धीरेन्द्र जी

    उत्तर देंहटाएं
  18. समय ठहर उस क्षण,है जाता,,,

    ज्वार मदन का जब है आता
    रश्मि-विभा में रण ठन जाता, ... बहुत ही बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ज्वार मदन का जब है आता
      रश्मि-विभा में रण ठन जाता
      अरे .................. :)बाप रे ............ !

      हटाएं
  19. बढ़िया है यह समय की बेबसी

    उत्तर देंहटाएं
  20. विक्रम जी की रचना से परिचय कराने के लिए धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  21. इसमें कुछ खास है जो हममें श्रृंगार रस का संचार करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. विक्रम जी की रचना पढ़वाने हेतु धन्यवाद ... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  23. अच्छी रचना
    सुंदर भाव

    श्वास सुरभि सी आती जाती
    अधरों से मधु रस छलकाती,

    आलिंगन आबध्द युगुल तब
    प्रणय पाश में है बँध जाता,

    क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर....हिंदी शब्दों का बहुत अच्छा प्रयोग किया है ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. श्रंगार रस में भिगोती बहुत सुन्दर प्रस्तुति...शब्दों और भावों का अद्भुत संयोजन..

    उत्तर देंहटाएं
  26. एक नए अंदाज में ..अद्भुत शब्द समन्वय.. परदे में रह भी पर्दा उठा दिया , श्रृंगार और प्रणय गीत सुन्दर भाव
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  27. Merii rachana ko apane blag ke maadhyam se prakaashit karane ke liye aapaka aabhaar,saath hii racana par apanii raay vyakt karane vaale sabhii maananiiy jano ko bahut-bahut dhanyavaad.

    उत्तर देंहटाएं
  28. बेहतरीन प्रस्तुति !
    बहुत दिनों बाद कोई ऐसी रचना
    पढने को मिला ! बहुत -बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  29. Merii rachana ko apane blag ke maadhyam se prakaashit karane ke liye aapaka aabhaar,saath hii racana par apanii raay vyakt karane vaale sabhii maananiiy jano ko bahut-bahut dhanyavaad.

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत खूब
    बहुत सुन्दर रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  31. संयोग श्रृंगार की अनूठी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  32. बीमारी नें साहब मुझको खूब रुलाया
    कई माह से बिस्तर में था मुझे सुलाया
    और धीर जी ब्लॉग जगत में जमें हुए हो
    ''अधरों से मधु रस''में अब तक रमें हुए हो.
    बेहतरीन प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. विजय,आपकी टिप्पणी,होती है मजेदार
      थोड़ा सा जोर लगाए,आये पोस्ट निखार,,

      बहुत दिनों बाद आपको पोस्ट पर पाकर अच्छा लगा,आभार,,,
      शीघ्र पूर्ण रूप से स्वस्थ हो,,

      हटाएं

    2. कठिन किंतु सरस।
      आलिंगन आबद्ध युगल तब
      प्रणय पाश में है बंध जाता
      समय ठहर उस क्षण जाता
      अतिश्रेष्ठ भावाभिव्यंजना साथ में शब्दों के कारीगर हैं, आप कठिनतम हिंदी शब्दों को ऐसे आबद्ध किया कि वे कठिनाई के कवच से बाहर निश्छल सहज सिर्फ अर्थ बयां करने लगे। बहुत खूब धीरेंद्र जी।
      ब्लॉग में कुछ दिक्कत है मुझे टिप्पणी करने में कठिनाई हो रही है।

      हटाएं
  33. जबरदस्त प्रस्तुति ।।

    सजन श्वांस उच्छवासों में, सजनी जीवन सजना है ।

    दिल दोनों धौकनी बने, कानों को तो बजना है ।

    स्वेद-कणों की बात करें क्या, गंगा यमुने का संगम हो

    जीवन के इन प्रेम पलों हित, जाने क्या क्या तजना है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  34. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  35. कठिन किंतु सरस।
    आलिंगन आबद्ध युगल तब
    प्रणय पाश में है बंध जाता
    समय ठहर उस क्षण जाता
    अतिश्रेष्ठ भावाभिव्यंजना साथ में शब्दों के कारीगर हैं, आप कठिनतम हिंदी शब्दों को ऐसे आबद्ध किया कि वे कठिनाई के कवच से बाहर निश्छल सहज सिर्फ अर्थ बयां करने लगे। बहुत खूब धीरेंद्र जी।

    उत्तर देंहटाएं
  36. कठिन किंतु सरस।
    आलिंगन आबद्ध युगल तब
    प्रणय पाश में है बंध जाता
    समय ठहर उस क्षण जाता
    अतिश्रेष्ठ भावाभिव्यंजना साथ में शब्दों के कारीगर हैं, आप कठिनतम हिंदी शब्दों को ऐसे आबद्ध किया कि वे कठिनाई के कवच से बाहर निश्छल सहज सिर्फ अर्थ बयां करने लगे। बहुत खूब धीरेंद्र जी।
    ब्लॉग में कुछ दिक्कत है मुझे टिप्पणी करने में कठिनाई हो रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  37. ज्वार मदन का जब है आता
    रश्मि-विभा में रण ठन जाता
    अनुभूति की अद्धभुत ,अभिव्यक्ति है !

    उत्तर देंहटाएं
  38. उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  39. मधुर पलो को संजोये एक नाज़ुक रचना ....

    न्यूज़ पोर्टल

    उत्तर देंहटाएं
  40. उत्कृष्ठ रचना है
    रस ....बरसाती .....गहराई का आभास कराती
    एक एक लाइन मदमस्त कर गई
    वाह और आह ही कह सकते है
    भाव के साथ बेहतर शब्दों का चयन
    हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  41. Not only time but even earth stops to move at that very moment!
    A lovelorn poem!

    उत्तर देंहटाएं
  42. श्वास सुरभि सी आती जाती
    अधरों से मधु रस छलकाती,
    sundar .....

    उत्तर देंहटाएं
  43. बहुत ही प्रौढ़ रचना है , आचार्य रजनीश के दर्शन को समेटती हुई अद्भुद रचना लगी | समय ठहरना ही तो समाधी है |

    उत्तर देंहटाएं
  44. श्वास सुरभि सी आती जाती
    अधरों से मधु रस छलकाती,
    sundar .....

    उत्तर देंहटाएं
  45. sach hi hai, in palon me vakayi, samay ke thahrne ka ehsaas hota hai, bahut khoobsurat abhivyaktie aur behtreen tippaniyan, dono rasbhari hain!!

    उत्तर देंहटाएं
  46. Wah...shbdo ke karigar hai,vikram ji.badhai

    उत्तर देंहटाएं
  47. आलिंगन आबद्ध युगल तब
    प्रणय पाश में है बँध जाता,
    क्या बात हैं कविता की सबसे अच्छी कडी
    आभार

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,