मंगलवार, 10 जनवरी 2012

यह कदंम का पेड़.....

यह कदंम का पेड़

यह कदंम का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे
मैं भी उस पर बैठ कन्हैया बनता धीरे-धीरे

ले देतीं यदि मुझे बांसुरी तुम दो पैसे वाली
किसी तरह नीची हो जाती यह कदंब की डाली

तुम्हें नहीं कुछ कहता पर मैं चुपके-चुपके आता
उस नीची डाली से अम्मा ऊँचे पर चढ़ जाता

वहीं बैठ फिर बड़े मजे से मैं बांसुरी बजाता
अम्मा-अम्मा कह वंशी के स्वर में तुम्हे बुलाता

बहुत बुलाने पर भी माँ जब नहीं उतर कर आता
माँ, तब माँ का हृदय तुम्हारा बहुत विकल हो जाता

तुम आँचल फैला कर अम्मां वहीं पेड़ के नीचे
ईश्वर से कुछ विनती करतीं बैठी आँखें मीचे

तुम्हें ध्यान में लगी देख मैं धीरे-धीरे आता
और तुम्हारे फैले आँचल के नीचे छिप जाता

तुम घबरा कर आँख खोलतीं, पर माँ खुश हो जाती
जब अपने मुन्ना राजा को गोदी में ही पातीं

इसी तरह कुछ खेला करते हम-तुम धीरे-धीरे
यह कदंम का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे,

==============================
ये रचना श्री मति सुभद्रा कुमारी चौहान द्वारा लिखित जो मुझे बहुत पसंद
है आप सभी पाठकों के लिए
प्रस्तुत है,--dheerendra--

56 टिप्‍पणियां:

  1. आपके पोस्ट पर आकर विचरण करना बड़ा ही आनंददायक लगता है । मेरे नए पोस्ट "लेखनी को थाम सकी इसलिए लेखन ने मुझे थामा": पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद। .

    उत्तर देंहटाएं
  2. इसी तरह कुछ खेला करते हम-तुम धीरे-धीरे
    यह कदंम का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे,
    ... aapne achha kiya ise padhaker ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हमारी भी बचपन की सबसे प्रिय रचना है यह अभी भी शब्द-शब्द याद हैं.
    और १ कविता थी
    उठो लाल अब आँखें खोलो
    पानी लायी हूँ मुहं धोलो
    बीती रात कमलदल फूले
    उनके ऊपर भंवरे झूले
    चिड़िया चहक उठी पेड़ों पर
    नभ में न्यारी लाली छाई
    बहने लगी हवा अति सुन्दर
    धरती ने प्यारी छवि पाई
    ऐसा सुन्दर समय न खोओ
    मेरे प्यारे अब मत सोओ

    उत्तर देंहटाएं
  4. संध्या जी,..आपकी टिप्पणी अच्छी लगी,...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन रचना।
    प्रस्‍तुति के लिए आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह कविता हमें भी बहुत पसंद थी|
    फिर से पढ़कर बहुत अच्छा लगा|
    सुंदर प्रस्तुति के लिए आभार|

    उत्तर देंहटाएं
  7. धीरेन्द्र जी बचपन याद दिला दी आप ने ..मुझे भी ये कविता बहुत पसंद है...आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह रचना पहले भी पढ़ी है लेकिन इसका रस बना रहता है .वाचन में हर दफा आनंद आता है .

    उत्तर देंहटाएं
  9. बचपन की याद दिला दी आपने...
    वैसे बचपन को हम भुलाते भी कहाँ है...मैंने कदम्ब के नीचे बैठ कर कुछ लिखा था इस कविता को याद करते करते..
    कभी पढियेगा मेरे ब्लॉग पर-"मेरी डायरी का एक पन्ना 5th october."
    शुक्रिया

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुभद्रा जी की यह रचना बहुत अच्छी लगी सर!


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच में उम्दा प्रस्तुति ..के लिए दिल से आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. धीरेन्द्र जी! आपने तो मुझे बचपन में पहुंचा दिया. मन भर आता है और दुःख होता है कि हमारे बच्चों को यह सब नहीं मिला पढ़ने को!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर"यह कदंम का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे"अभी भी सुभद्रा कुमारी चौहान जी की यह रचना याद है.
    आपकी इस प्रस्तुति ने बचपन की यादें ताजा कर दी.
    vikram7: हाय, टिप्पणी व्यथा बन गई ....

    उत्तर देंहटाएं
  14. बचपन की यादें ताजा हो गई

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर लगी यह रचना.
    आपका आभार हमें इसे पढवाने
    के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  16. vikram7: हाय, टिप्पणी व्यथा बन गई ....
    आदरणीय धीरेन्द्र भाई साहब
    मेरी इस कविता पर टिप्पणी के लिये,धन्यवाद
    ये रचना खुद की आदत पर ,न कि किसी पर व्यंग .
    ब्लॉग लेखन विचारों की अभिव्यक्ति का एक जरिया मात्र है. जहाँ अपनी बात कहनें के अलावा दूसरो को जाननें व उनके विचारों से अवगत होने का हमें अवसर मिलाता है..
    प्रभावशाली अभिव्यक्ति को प्रचार की आवश्यकता नही होती,कबीर व सूरदास जी इसके उदाहरण हैं. ब्लॉग जगत में हिन्दी पाठकों की संख्या कम है.साथ ही अच्छे लेखन को सही मंच का जरिया भी उपलब्ध नही है . आपकी रचनायें मैं बराबर पढ़ता हूँ,आप का लेखन काफी गंभीर व समाज की ज्वलंत समस्या पर आधारित होता है, वैसे परम्पराओं का निर्वहन भी जरूरी है.
    आइये हसते मुस्कराते टिप्पणी का क्रम जारी रखें .

    उत्तर देंहटाएं
  17. विक्रम जी,..मैंने जो भी लिखा है,वह आम सभी ब्लोगरो की दिली भावनाओं की बात को व्यक्त किया है,अगर मेरी बातों सच्चाई है तो तुम्हे खुद ही तुम्हारा कमेंट्स बाक्स बता देगा,....अगर मेरी बात सच निकले,तो मुझे बधाई जरूर देना

    उत्तर देंहटाएं
  18. बचपन की स्मृति में यह सुन्दर कविता ले जाये,
    जब भी पढ़ु ये कविता मुझको माँ की याद दिलाये।

    उत्तर देंहटाएं
  19. ये कविता मन में प्रार्थना की तरह रची बसी है ...पॉडकास्ट बनाया था एक बार हिन्दयुग्म आवाज के लिए ...इसे गाना बेहत सुकून देता है ..इसे आप यहाँ भी पढ़ सकते है --- http://kuchhpuraaniyaadein.blogspot.com/2010/07/blog-post_15.html
    और यहाँ सुन सकते हैं ---
    http://baaludyan.hindyugm.com/2010/02/listen-yeh-kadamb-ka-ped.html
    आभार फ़िर से याद ताजा करने के लिये..

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर रचना..बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  21. धीरेन्द्र जी , 'रसखान' - "जो खग हों तो बसेरा करूँ - - - - " की यादों के साथ बचपन में पहुंचा दिया आपने . . .आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  22. वहीं बैठ फिर बड़े मजे से मैं बांसुरी बजाता
    अम्मा-अम्मा कह वंशी के स्वर में तुम्हे बुलाता ...

    सुभद्रा कुमारी जी की अनुपम कृति .... आनद आ गया पढ़ के ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत बहुत आभार इस अमर रचना को पढवाने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  24. हमारे कोर्स की किताब में यह कविता थी.. और हमलोग जुबानी याद करते थे उन कविताओं को.. अभूत अच्छी प्रस्तुति!!

    उत्तर देंहटाएं
  25. यह कविता मुझे भी बहुत पसंद है । इसे फिर से पढवाने का आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  26. वाह वाह वाह आदरणीय धीरेन्द्र सर...
    मेरे घर के सामने निकलते ही बाहर उद्यान में लगा कदम्ब का पेड़ रोज ही मुस्कुराता दिखता पड़ता है और इस प्यारे गीत की शुरुआती पंक्तियाँ लगभग रोज ही गुनगुना उठता हूँ उस पेड़ को देखर...

    सादर आभार

    उत्तर देंहटाएं
  27. बचपन में यह कविता पढी थी आज फिर बचपन की यादें ताजा हो गई।
    यह सदाबहार कविता बहुत अच्छी लगती है।

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुभद्रा कुमारी चौहान की इस कविता को पढ़्वाने के लिए आभार॥

    उत्तर देंहटाएं
  29. कुछ पुराने पलों को संस्मरण कराना भी कभी कभी आनंददायक होता है, वैसे इस कविता को संस्मरण कराने के लिए धन्यवाद |

    टिप्स हिंदी में

    उत्तर देंहटाएं
  30. प्राथमिक शाला बाल-भारती कक्षा चौथी(सम्भवत:)की स्मृतियाँ ताजा हो उठी.

    उत्तर देंहटाएं
  31. Dheerendraji,
    kavita prastut karne ke liye dhanyavaad...

    hume follow karne yogya samjha uska dhanyavaad...yunhi aashirvaad banaye rakhein....

    उत्तर देंहटाएं
  32. are waah...! bachpan ki yeden fir se jag gai. ye main paanchmi varg men padha thaa...chhathi men hawa hun hawa main basanti hawa hun...ye sabhi kaveetayen abhi tak man men basi hui hai...!
    aaj "kadam ka ped" padh kar fir se man school boy ban gaya...apko bahut bahut shukriya!
    main aapka dil se samarthak ban raha hun.

    उत्तर देंहटाएं
  33. bachpan yaad dila diya sir aapne...ek kadamb ka ped agar maa hota yamuna teere main bhi us par beth kanhaiya banta dheere dheere......koun si class me padhi thi ye kavita theek se yaad nahi....par kavita acche se yaad thi....bahut accha laga

    उत्तर देंहटाएं
  34. सुभद्रा कुमारी चौहान जी को पढ़कर बहुत अच्छा लगा |

    उत्तर देंहटाएं
  35. ये तो इतनी मनभावन कविता है ..की कोई मेल नहीं ..पहले हमने पढ़ी आज अपने बच्चों को पढ़ा रहे हैं..
    धन्यवाद के साथ
    कभी पधारें..

    kalamdaan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  36. पुराना काव्य हमेशा से प्रेरणादायक रहा है !

    उत्तर देंहटाएं
  37. धीरेन्द्र भाई ...नाराज न हों ....आजकल काम के बोझ से दवा हूँ .......नव वर्ष की शुभ कामना .....
    कदम का पेड़ ...मैंने भी अपने बचपन में पढ़ा था.....आपने पुराणी यादे ताजा कर दी

    उत्तर देंहटाएं
  38. क्या कहूं , आपने इस कविता की पंक्तियों के माध्यम से मुझे अपना बचपन याद करा दिया, मेरी माँ शिक्षा विभाग से सम्बंधित थीं, और वे अक्सर मुझसे यह कविता गीत के तरीके से सुना करतीं थीं| किन शब्दों में आभार व्यक्त करूं,आपका |

    उत्तर देंहटाएं
  39. मेरे तरफ से आपको एवं समस्त परिवार को
    मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  40. तुम्हें ध्यान में लगी देख मैं धीरे-धीरे आता
    और तुम्हारे फैले आँचल के नीचे छिप जाता...
    सुंदर प्रस्तुति |

    उत्तर देंहटाएं
  41. यह रचना है ही बहुत प्यारी। मुझे भी भाई।

    उत्तर देंहटाएं
  42. आभार, बहुत सुन्दर, इस कविता ने मुझे मेेरे बचपन व माॅ की याद में रूला दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  43. yeh mere jiven sabse anand dene wali kavita he dhanya he subhadra kumari ji jo aapne bharat me janam liya

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,